पं० रामदत्त त्रिपाठी जी का जीवन परिचय

हमारे पूज्य दादाजी स्व० भागीरथ जी त्रिपाठी एवं स्व० दादी श्रीमती पानकुमारी के कुल दीपक स्व० पं० रामदत्त जी का जन्म 1 नवम्बर 1940 को ग्राम पहाड़पुर, तहसील रसूलाबाद, जनपद कानपुर (देहात) में हुआ था | पं० रामदत्त त्रिपाठी अपने भाईयों एव बहिनों में सबसे अनुज भ्राता थें | इनकी शिक्षा दीक्षा बड़े भाई स्व० श्री श्रीकृष्ण जी के त्रिपाठी एवं श्री रामसेवक जी त्रिपाठी की देख-रेख में हुई तथा श्री रामकृष्ण जी त्रिपाठी ने पं० जी को कर्तव्य, सत्यनिष्ठ एवं सद्व्यवहारिकता का पाठ पढ़ाया | त्रिपाठी जी बचपन से कर्मठी और लगनशील थें | पं० रामदत्त जी त्रिपाठी व उनके अभिन्न मित्र एवं सहपाठी डा० नरेंद्र द्विवेदी जी ने साथ-साथ रहकर आर० पी० एस० इण्टर कालेज रूरा में शिक्षा ग्रहण की | पं० रामदत्त त्रिपाठी जी प्रयागपुर इण्टर कालेज में शिक्षक भी रहे |
पं० रामदत्त त्रिपाठी जी झींझक (द्वारिकागंज) की धरती पर एक साहसी, दृढ़ निश्चयी व सिद्धान्तों से कभी समझौता न करने वाले व्यक्ति थें | इन्होने अपने जीवन काल में समाज हित के कई कार्य किये | पं० जी सामाजिक सुधार, मर्यादा व सिद्धान्तों की रक्षा हेतु दिनांक 18 जुलाई सन 1995 को झींझक की धरा पर शहीद हो गये |
डा० नरेंद्र द्विवेदी जी ने अपने मित्र की स्मृति में झींझक में ही पं० रामदत्त त्रिपाठी महाविद्यालय प्रारम्भ करने की प्रेरणा जगाई और हम सभी लोगों को आगे का मार्गदर्शन कराया | शिक्षा के माध्यम से क्षेत्र का विकास करना जीवन का प्रमुख उद्देश्य है |

                                                                                                              उप प्रबन्धक
                                                                                                              अवधेश कुमार त्रिपाठी
                                                                                                              एम० ए० हिन्दी, समाजशास्त्र